Skip to main content


Sri Krishna Dwadashi - Vasudeva Dwadasi

Sri Krishna Dwadashi (also known as Vasudeva Dwadasi) is an auspicious date dedicated to Hindu God Krishna and is observed in the Ashada month in North India. Sri Krishna Dwadashi 2020 date is July 2. It is falls on the 12th day, or Dwadasi day, during the Shukla Paksha, or waxing phase of moon, in Ashada month.

Importance of Vasudeva Dwadashi is found in the Varaha Purana. Deva Rishi Narad mentioned about this vrat to Vasudeva and Devaki (father and mother of Sri Krishna).

This Dwadashi is highly meritorious and is observed by different names throughout India. It marks the beginning of the Chaturmas Vrat.

The previous day is known as Dev Sayana Ekadasi.

Vasudeva Dwadasi

The day is dedicated to Bhagavan Sri Krishna - the Vasudeva form of Krishna is worshipped on the day.

Visiting Krishna temple and chanting the names of Sri Krishna or reading the Srimad Bhagavata Purana chapters dedicated to Krishna.

Feed cows with green grass, jaggery and roti helps in attaining peace and prosperity.

In some regions, Sri Krishna is worshipped along with Vishnu and Goddess Lakshmi.


The puja is performed in Ashada, Shravan, Bhadrapad and Ashwin Shukla Paksha Dwadashi tithi – 12th day of waxing phase of moon in Ashada, Shravan, Bhadrapada and Ashwin months.


It is also believed that those performing the vrat will attain moksha.

Pujas if offered to various names of Krishna, all his body parts and also to his vehicles.

Vasudev Dwadasi Puja Process - Benefits

  • वासुदेव द्वादशी के दिन प्रात: जल्द स्नान करके श्वेत वस्त्र धारण कर भगवान श्रीकृष्ण का 16 प्रकार के पदार्थों से पूजन करना चाहिए।
  • मान्यता है इस दिन भगवान को विशेष रूप से हाथ का पंखा और फल-फूल चढ़ाने चाहिए और पंचामृत भोग लगाना चाहिए।
  • इस दिन व्रत रखकर दोनों संध्याओं में कमल के पुष्पों के द्वारा षोडषोपचार विधि से मां लक्ष्मी का पूजन कर- लक्ष्मी मंत्रों का कम से कम एक हज़ार बार जप करना चाहिए।
  • वासुदेव की प्रतिमा को सबसे पहले जलपात्र में रखकर इसो दो वस्त्रों से ढककर पूजन करें
  • बाद में प्रतिमा को दान करें
  • विष्णु सहस्त्रनाम का जाप करें, इससे आप की हर समस्या का समाधान होगा।
  • पौराणिक कथाओं के अनुसार यह व्रत नारद जी ने वसुदेव उनकी पत्नी देवकी को बताया था।
  • उन्होंने बताया था इस करने से कर्ता के पाप कट जाते हैं और उसे पुत्र की प्राप्ति होती है नष्ट हुआ राज्य पुन: प्राप्त हो जाता है।
  • इस दिन खासतौर पर भगवान श्रीकृष् एवं मां लक्ष्मी का पूजन किया जाता है।
  • इस दिन व्रत रखने से जाने-अनजाने में हुए पापों का नाश होता है।
  • निसंतानों को संतान की प्राप्ति हो जाती है।



Read More From Hindu Blog